मुस्लिम महिला डॉक्टर पायल के फोन से मिला सुसाइड नोट, आरोपियों के हैं नाम

Payal-Tadvi-left-and-hushand-Salman-right

मुंबई, एएनआइ। मुंबई के बीवाईएल नायर अस्पताल से जुड़ी स्नातकोत्तर द्वितीय वर्ष की मेडिकल छात्रा पायल तड़वी के आत्महत्या मामले में नया खुलासा हुआ है। पायल तड़वी के फोन से एक सुसाइड नोट मिला है। सुसाइड नोट में न केवल जातिवादी गालियों के बारे में उल्लेख किया गया है, बल्कि मामले में गिरफ्तार तीन वरिष्ठ महिला डॉक्टरों का भी नाम है। पुलिस ने भारत दंड संहिता की धारा 201 (सबूतों को नष्ट करने) के तहत कार्रवाई शुरू कर दी है।
इस नोट से पायल को आत्महत्या के लिए उकसाने के मामले में तीन डॉक्टरों हेमा आहूजा, भक्ति मेहरे और अंकिता खंडेलवाल को गिरफ्तार किया गया है। पायल ने अपने सुसाइड नोट में लिखा है कि ये तीनों डॉक्टर उसे मानसिकरूप से प्रताडि़त करती थी।
गौरतलब है कि आत्महत्या के बाद पायल तड़वी का सुसाइड नोट बरामद नहीं हुआ था। पुलिस ने दावा किया है कि तड़वी ने सुसाइड नोट लिखने के बाद उसकी फोटो अपने फोन से खींच ली थी। आत्महत्या के बाद कमरे से पुलिस को सुसाइड नोट बरामद नहीं हुआ था। पुलिस का दावा है कि दो आरोपियों ने सुसाइड नोट के साथ ही साक्ष्य मिटाने का काम किया है।
क्या है मामला
नायर अस्पताल के टॉपिकल नेशनल मेडिकल कॉलेज में गायनोकोलॉजी एंड ऑब्स्टेट्रिक्स के सेकेंड ईयर में पढ़ने वाली पायल की शादी 2016 में डॉक्टर सलमान से हुई थी। सलमान मुंबई के ही बालासाहेब ठाकरे मेडिकल कॉलेज में असिस्टेंट प्रोफेसर हैं। इस प्रताड़ना के बारे में वह बताते हैं, दिसबंर 2018 में एक शाम डिनर के बाद हम दोनों साथ थे और वो अचानक ही जोर-जोर से रोने लगी, कहने लगी कि अब उससे सहा नहीं जाता है।
मैंने उसे कुछ दिन अस्पताल जाने नहीं दिया। घर पर रहकर वो ठीक हो गई थी। करीब एक सप्ताह बाद मैं उसके साथ हेड ऑफ डिपार्टमेंट से मिला। हमने उन्हें इस पूरे प्रकरण के बारे में बताया। मैंने उनसे कहा था कि मुझे मेरी बीवी हंसती खेलती चाहिए। उसका मानसिक संतुलन खराब नहीं होना चाहिए। इसके बाद उन्होंने पायल को एक कोर्स के लिए दूसरी यूनिट में भेज दिया। फरवरी 2019 तक वो ठीक थी।