कर्नाटक के बाद अब मध्य प्रदेश सरकार पर खतरा मंडराने के संकेत

भोपाल. कर्नाटक में कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन की सरकार गिरने के बाद मध्य प्रदेश के नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने कमलनाथ सरकार गिराने की चेतावनी दी। उन्होंने बुधवार को विधानसभा में कहा कि अगर हमारे ऊपर वाले नंबर 1 और 2 का आदेश हुआ तो कांग्रेस सरकार 24 घंटे भी नहीं चलेगी। भाजपा नेता के बयान पर सदन में हंगामा हुआ। इसबीच, मुख्यमंत्री कमलनाथ ने उन्हें जवाब देते हुए कहा कि आपके नंबर 1 और 2 समझदार हैं, इसलिए आदेश नहीं दे रहे।
कमलनाथ ने कहा कि ये नंबर एक और दो कौन हैं? इनके बारे में सब लोग हकीकत जानते हैं। मध्य प्रदेश में हमारी सरकार पांच साल पूरे करेगी। अगर आपको (भाजपा) को लगता है तो आज ही अविश्वास प्रस्ताव ले आएं। साबित हो जाएगा कि सरकार अल्पमत में है या नहीं।
हमारे विधायक बिकाऊ नहीं हैं: कमलनाथ
मुख्यमंत्री ने कांग्रेस सदस्यों की ओर से लाए गए ध्यानाकर्षण सूचना पर बोल रहे थे। कमलनाथ ने कहा कि राजनीतिक जीवन में उनके ऊपर कोई दाग नहीं है। इसी दौरान गोपाल भार्गव ने यह टिप्पणी की। भार्गव के बयान पर सदन में कांग्रेस ने हंगामा शुरू कर दिया। उनके सदस्यों ने खरीदफरोख्त का आरोप लगाया। कमलनाथ ने कहा कि यहां बैठे विधायक बिकाऊ नहीं हैं। हंगामे के चलते स्पीकर एनपी प्रजापति ने कार्यवाही पांच मिनट के लिए स्थगित कर दी।
सरकार का पिंडदान होगा: भार्गव
भाजपा नेता कर्नाटक में कुमारस्वामी सरकार गिरने के बाद सुबह से ही मध्य प्रदेश में भी कांग्रेस सरकार की उल्टी गिनती शुरू होने को लेकर बयान दे रहे थे। विधानसभा के बाहर गोपाल भार्गव ने कहा था कि कर्नाटक से चली हवा अब मध्य प्रदेश तक पहुंचेगी। प्रदेश में लूट-खसोट का माहौल है। जल्द ही मध्य प्रदेश में भी कांग्रेस सरकार का पिंडदान होने वाला है।
मध्य प्रदेश विधानसभा में दलीय स्थिति

पार्टी विधायक
कांग्रेस 114
भाजपा 108
बसपा 2
सपा 1
निर्दलीय 4
रिक्त 1
कुल सीट: 230

बहुमत के लिए: 116