दूध में मिलावटखोरी की पुष्टि होने पर ग्वालियर के व्यापारी पर रासुका के तहत कार्रवाई, जेल भेजा

ग्वालियर. राज्य में मिलावटखोरों के खिलाफ सरकार की कार्रवाई जारी है। सबसे ज्यादा कार्रवाई ग्वालियर और चंबल संभाग में हो रही हैं। साथ ही प्रदेश के अलग-अलग जिलों में छापा मार कार्रवाई जारी है। इधर, मुख्यमंत्री ने मिलावटखोरों की सूचना देने के लिए फोन नंबर और ईमेल आईडी जारी की है।
शनिवार को ग्वालियर में जिला प्रशासन ने केमिकल युक्त दूध बनाने के आरोप में मोहना स्थित बाबा दूध डेयरी के संचालक उम्मेद सिंह रावत को राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) के तहत गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। मिलावटखोरी के आरोप में उज्जैन के बाद रासुका की दूसरी कार्रवाई है।
24 जुलाई को पुलिस और प्रशासन की संयुक्त टीम ने आरोपी की दूध डेयरी पर छापा मारकर 3000 लीटर केमिकल युक्त दूध जब्त किया था। स्टेट लैब में जांच के दौरान इसमें मिलावट की पुष्टि हुई। जिसके बाद कलेक्टर ने डेयरी संचालक के खिलाफ रासुका के तहत कार्रवाई की है। कलेक्टर अनुराग चौधरी ने बताया कि प्रस्ताव राज्य शासन को भेज दिया गया है।
2016 में भी हुई थी कार्रवाई
मोहना में हाल ही में एसडीएम घाटीगांव दीपशिखा भगत ने रघु डेयरी के यहां छापामार कार्रवाई की थी। यहां पर नकली दूध की पूरी फैक्ट्री मिली थी और इसी उम्मेद सिंह की बर्फ फैक्ट्री में 6 तरह के केमिकल रखे मिले थे। इसके अलावा 2016 में कास्टिक सोडा सहित अन्य पदार्थाें से दूध बनाने के मामले में भी इस पर कार्रवाई हो चुकी है।