वृद्ध एवं नि:शक्तजनों के नॉमिनी को राशन देने वाला देश का पहला राज्य बना मप्र

भोपाल. खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने कहा है कि सार्वजनिक वितरण प्रणाली के नि:शक्त, वृद्ध और शारीरिक रूप से कमजोर उपभोक्ताओं के नॉमिनी भी उनके स्थान पर राशन ले सकेंगे। तोमर ने कहा कि प्रदेश अब सार्वजनिक वितरण प्रणाली में नॉमिनी को राशन देने की सुविधा प्रदान करने वाला देश का पहला राज्य बन गया है।
उन्होंने बताया कि खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग द्वारा 22 जिलों में ‘आधार-आधारित राशनिंग’ व्यवस्था में यह सुविधा प्रदान की गई है। इसमें वृद्धावस्था या नि:शक्तता के कारण पीओएस मशीन पर उपभोक्ता के अंगूठे का प्रिंट नहीं आने और स्वयं राशन दुकान तक आने में असमर्थ उपभोक्ता अपने परिवार के किसी अन्य व्यक्ति को नॉमिनी घोषित कर सकते हैं। घोषित नॉमिनी बायोमैट्रिक सिस्टम से तुरंत राशन प्राप्त कर सकेंगे।
उपभोक्ताओं के राशन कार्ड में आधार दर्ज न होने या मशीन द्वारा वेरिफिकेशन न करने पर तुरंत केवाईसी जारी करने की सुविधा भी प्रदान की गई है। इसके लिए उपभोक्ता को अपना मूल आधार कार्ड और परिवारजनों की जानकारी लेकर राशन दुकान पर आना होगा।