1 करोड़ के पुराने नोट बदलवाने आए 6 लोग इंदौर पुलिस की गिरफ्त में, बताया- 20 फीसदी नए नोट मिलते हैं

इंदौर. नवंबर 2016 में भारत सरकार ने 500 और एक हजार रुपए के पुराने नोटों का चलन बंद कर दिया था, इसके बावजूद आज भी पुराने नोटों की तस्करी जारी है। शनिवार रात पुलिस ने एक करोड़ रुपए मूल्य के पुराने नोटों के साथ 6 आरोपियों को गिरफ्तार किया।
एमजी रोड थाना पुलिस के मुताबिक, शनिवार रात एमजी रोड स्थित बाबा होटल के पास कुछ संदिग्ध युवकाें के खड़े होने की सूचना मिली। पुलिस ने योजना बनाकर 6 युवकों को गिरफ्तार किया। उनके पास से 500 और 1 हजार के कुल 1 करोड़ 1 लाख 15 हजार रुपए जब्त किए गए। आरोपियों में से चार आरोपी ओडिशा के और दो ग्वालियर के रहने वाले हैं।
पुराने नोट के बदले नए नोट बदलने आए थे
पूछताछ में आरोपियाें ने बताया कि वह इन पुराने नोट को नए नोट से बदलने आए थे। इंदौर का एक व्यक्ति आज भी पुराने नोट के बदले 20 फीसदी नए नोट देता है। उसी ने उन्हें इंदौर बुलाया था। आरोपियों के पास से 1000 रुपए के 8715 नोट बरामद किए गए। जिनकी कुल कीमत 87 लाख 15 हजार रुपए है। वहीं 500 रुपए के 2800 (राशि 14 लाख) नोट बरामद किए गए।
देश के बाहर पहुंचाते थे नोट
सूत्रों के अनुसार इन पुराने नोट को भारत से बाहर अन्य देश जैसे नेपाल, भूटान, बांग्लादेश आदि में पहुंचाया जाता है। वहां से यह पुराने नोट पॉलिसी के माध्यम से भारत सरकार को वापस भेज दिए जाते हैं। इंदौर के जिस व्यक्ति ने पुराने नोट बदलने के लिए आरोपियों को बुलाया था पुलिस उसकी तलाश कर रही है।
इन आरोपियों को किया गिरफ्तार
मोहम्मद आलम पिता वाहिद अली (25) निवासी खोरदा भुवनेश्वर, दिलीप पिता पूर्णचंद्रा जना (31) निवासी लिंगराज भुवनेश्वर, विशाल पिता मुन्नासिंह परिहार (33) निवासी ग्वालियर, संजय पिता बाबूसिंह कुशवाह (33) निवासी ग्वालियर, राजीव पिता नारायण पाण्डा (25) निवासी वासुदेवपुर जिला भद्रक उड़ीसा और दिव्याराम पिता गौराम चरण ब्योदरा (27) निवासी पोरखी जिला जगतसिंहपुर है।