तीन दिन में तीन तलाक के तीन केस, पतियों को मिली बेल

नई दिल्ली : तीन तलाक को लेकर संसद में कानून बनने के बाद राजधानी में अब तक तीन मामले दर्ज हो चुके हैं। इसमें पहला मुकदमा बाड़ा हिंदू राव थाने में दर्ज हुआ था। इसके बाद गांधी नगर और कमला मार्केट थाने में भी एक-एक मुकदमा दर्ज हो गया है। तीनों महिलाओं का आरोप है कि उनके पति ने एक साथ तीन बार तलाक बोलकर उनसे रिश्ता तोड़ने का फरमान सुना दिया है। पुलिस ने मुस्लिम महिला ऐक्ट 2019 के तहत केस दर्ज कर लिया और आरोपी पतियों को जमानत मिल गई।
पुलिस के मुताबिक, तौसीफ (26) की पत्नी खरीदारी के लिए उसके ऑफिस पैसे लेने के लिए गई थी। तौसीफ ने पैसे देने से मना कर दिया। इस पर दोनों में बहस हो गई तो उसने गुस्से में पत्नी की पिटाई की और फिर तीन बार तलाक बोल दिया। महिला ने कमला मार्केट में शिकायत दी तो 11 अगस्त को पुलिस ने केस दर्ज कर आरोपी तौसीफ को गिरफ्तार कर लिया। पीड़िता से उसकी शादी करीब 7 साल पहले हुई थी।
गांधी नगर इलाके में भी दहेज को लेकर तीन तलाक का मामला सामने आया है। बबली (20) का निकाह दिसंबर 2017 में गांधी नगर में रहने वाले आरिफ मलिक (22) से हुआ था। आरोप है कि आरिफ कार की डिमांड कर रहा था और आठ महीने से पत्नी मायके में थी। लेकिन 10 अगस्त की शाम को पत्नी को अपने घर बुलाकर तीन बार तलाक बोल दिया। पीड़िता की शिकायत पर पुलिस ने केस दर्ज कर आरोपी आरिफ को गिरफ्तार कर थाने से जमानत दे दी। इससे पहले 9 अगस्त को आजाद मार्केट इलाके में रहने वाली रायमा याहिया (29) ने थाना बाड़ा हिंदू राव में ट्रिपल तलाक का पहला मामला दर्ज कराया था।