जम्मू-कश्मीर: मोबाइल बंद होने से श्रीनगर में लौट आए पीसीओ और एसटीडी बूथ के दिन

श्रीनगर : देश में जल्द ही 5G टेक्नॉलजी आने वाली है लेकिन जम्मू-कश्मीर में फिर से पीसीओ और एसटीडी बूथ के दिन लौट आए हैं। यहां अस्थायी पीसीओ के बाहर कतार में खड़े सैकड़ों लोग अपने सगे-संबंधियों को फोन करने के लिए अपनी बारी का इंतजार करते देखे जा सकते हैं। वहीं, सरकारी दूरसंचार कंपनी बीएसएनएल को नए लैंडलाइन (टेलिफोन) कनेक्शन के सैकड़ों आवेदन प्राप्त हुए हैं।
सभी कॉमेंट्स देखैंअपना कॉमेंट लिखेंसिविल लाइन इलाके में कई सारे अस्थायी सार्वजनिक कॉल कार्यालय (पीसीओ) खुल गए हैं। दरअसल, इन इलाकों में लैंडलाइन टेलिफोन सुविधाएं बहाल हो गई हैं। गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के ज्यादातर प्रावधानों को पिछले महीने रद्द किए जाने और राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित करने की केंद्र की घोषणा से कुछ घंटे पहले सरकार ने राज्य में टेलिफोन और संचार सेवाओं के सभी माध्यम बंद कर दिए थे। हालांकि, कुछ इलाकों में लैंडलाइन सेवाएं बहाल हो गई है लेकिन श्रीनगर शहर के कमर्शल इलाकों सहित घाटी के कई हिस्सों में यह अब भी ठप है।
टेलिफोन वालों के घर के बाहर लग रही लंबी लाइन
जवाहर नगर में मोहम्मद सलीम (बदला हुआ नाम) के घर में उनके रिश्तेदारों की भारी भीड़ लगने लगी थी। दरअसल, लोग फोन करने के लिए उनके घर के लैंडलाइन फोन का उपयोग करना चाहते थे। सलीम ने कहा, ‘लोगों की भारी भीड़ का प्रबंधन करने में मुश्किल हो रही थी। इसलिए मैंने अपने लैंडलाइन को एक भुगतान के साथ सेवा में तब्दील करने का फैसला किया।’
अपने घर में दो लैंडलाइन फोन रखने वाले इस कारोबारी को लगता है कि सरकार को शहर के उन सभी हिस्सों में पीसीओ खोलना चाहिए, जहां अब तक टेलिफोन सेवाएं बहाल नहीं हुई हैं। उल्लेखनीय है कि सरकार सभी पुलिस थानों में मुफ्त टेलिफोन सुविधाएं मुहैया कर रही है ताकि देश में कहीं भी अपने सगे-संबंधियों से संपर्क करने के इच्छुक लोगों की मदद की जा सके।
‘ऐसा ही रहा तो खुल जाएंगी फोन की दुकानें’
सकीना, जिनकी बेटी राजस्थान में रह कर पढ़ाई करती है, उन्होंने कहा ‘महिलाएं फोन करने के लिए थाने जाने में सहज महसूस नहीं करतीं। मैं यहां कहीं अधिक सहज महसूस करती हूं। हालांकि, मुझे करीब 10 किलोमीटर सफर करना पड़ा।’ अस्थायी पीसीओ मालिकों का मानना है कि यदि सरकार ने घाटी में मोबाइल फोन सेवाओं का निलंबन जारी रखा तो इस तरह की और दुकानें खुल जाएंगी।
इस बीच, सरकारी कंपनी भारत संचार निगम लिमिटेड (बीएसएनएल) अधिकारियों ने कहा कि उन्हें शहर के हर सक्रिय एक्सचेंज में नए लैंडलाइन कनेक्शन के सैकड़ों आवेदन मिले हैं। बीएसएनएल के एक अधिकारी ने कहा, ‘हम देख रहे हैं कि यह कितना व्यावहारिक होगा और जहां संभव होगा वहां कनेक्शन देंगे।’