मप्रप्र / पहली रोबोट नागरिक सोफिया ने की क्लाइमेट चेंज की बात, प्लास्टिक से दूरी की बात कही

MP news worlds first robot citizen sofia attend international round square conference in indore


इंदौर. क्लाइमेट चेंज पर विश्व के सभी देशों की सरकारों को अपनी नीति और आइडियाज दोनों में बदलाव लाने की जरूरत है। यह कहना है विश्व की पहली रोबोट नागरिक सोफिया का। राउंड स्क्वेयर इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस में फिल्म मेकर उत्तरा सिंह ने सोफिया से दुनिया में चल रहे प्रमुख मुद्दों पर बात की, जिसके बड़े ही संजीदगी के साथ सोफिया ने जवाब दिए। सोफिया ने क्लामेटचेंज और टेक्नोलॉजी पर बात की। सोफिया ने कहा कि रोबोट इंसानों की मदद के लिए बनाए जा रहे हैं, इसलिए उसने डरने की जरूरत नहीं है। हमें आज िजतनी जरूरत बिजली बचाने की है, उतनी ही जररूत प्लास्टिक से दूरी बनाने की।।  

सोफिया ने अपने ही अंदाज में सवालों के जवाब दिए।

51वीं राउंड स्क्वेयर इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस में शुक्रवार को विश्व की पहली रोबोट नागरिक सोफिया के साथ बातचीत का एक सेशन रखा गया था। फिल्म मेकर उत्तर सिंह ने सोफिया से विश्व के प्रमुख मुद्दों पर बातचीत की। जब सोफिया से पूछा गया कि क्या वो क्लाइमेट चेंज को लेकर जागरूक है तो सोफिया का कहना था कि वो ना सिर्फ इस मुद्दे पर जागरूक है, बल्कि वह विश्व में जहां भी जाती है, लोगों को जागरूक करने का प्रयास करती है। सोफिया के अनुसार वह क्लाइमेट चेंज को लेकर सोशल मीडिया से भी जानकारी लेती रहती है। 

सोफिया को अक्टूबर 2017 में सऊदी अरब की नागरिकता दी गई थी

जब उत्तरा सिंह ने सोफिया से पूछा कि क्या उनमें फीलिंग है तो सोफिया ने उत्तरा से कहा – आप मेरी फीलिंग को हर्ट कर रही हैं। जब सोफिया से पूछा गया कि क्लाइमेंट चेंज के लिए सरकारों को अपनी नीति या आइडियाज में से किसे बदलना चाहिए तो सोफिया का कहना था क सरकारों को दोनों में बदलाव की आवश्यकता है, क्योंकि दोनों ही एक-दूसरे पर प्रभाव डालते हैं। सोफिया से जब कहा गया कि भारतीय लोग डांस काफी पसंद करते हैं तो उन्हाकेने कहा डांस तो मुझे भी पसंद है, लेकिन  रोबोटिक। कॉन्फ्रेंस में अलग अलग देशों से आए बच्चों ने सोफिया से कई सवाल किए जिसके सोफिया ने जवाब दिए।

फिल्म मेकर उत्तरा सिंह ने सोफिया से दुनिया में चल रहे प्रमुख मुद्दों पर बात की।

एमराल्ड हाइट्स इंटरनेशल स्कूल के सिद्धार्थ ने बताया कि पहली रोबोट सिटीजन सोफिया पहली बार इंदौर आई है। यहां पर सोफिया ने 55 देशों के लोगों से बात की। इस दौरान उन्होंने क्लाइमेट चेंज, ह्यूमन टेक्नोलॉजी के बारे में बात की। इसके अलावा टेक्नोलॉजी के तरफ बच्चों के बढ़ते रुझान पर भी उन्होंने अपनी बात रखी। रोबोट से डरना चाहिए या उसका साथ देना चाहिए, इस सवाल के जवाब में सोफिया ने कहा कि रोबोट डरने वाली चीज नहीं है। यह इंसानों की मदद के लिए बनाए जा रहे हैं। क्लाइमेट चेंज पर बात करते हुए कहा कि लेस इलेक्ट्रीसिटी, लेस प्लास्टिक यूज करने की बात कही। हमें ज्यादा से ज्यादा पब्लिक ट्रांस्पोर्ट का उपयोग करना चाहिए। सभी देशों को पब्लिक ट्रांस्पोर्ट पर ज्यादा से ज्यादा इंवेस्ट करना चाहिए। 

एमराल्ड हाइट्स इंटरनेशल स्कूल राउंड स्क्वेयर इंटरनेशनल कांफ्रेस का आयोजन किया जा रहा है। इस आयोजन में विभिन्न देशों के विद्यार्थी आपस में एक-दूसरे की संस्कृति को साझा करेंगे। कांफ्रेस के इन छह दिनों में हर दिन अलग-अलग गतिविधियां आयोजित की जा रही हैं। पहली बार यह इंटरनेशनल कांफ्रेस इंदौर में रही है। स्कूल प्राचार्य सिद्धार्थ सिंह ने बताया कि कांफ्रेस में दुनिया के स्कूल के एक हजार विद्यार्थी शामिल हैं। इन स्कूलों में प्रदेश के तीन स्कूल को शामिल किया गया है।

सोफिया ने यहां 55 देशों के लोगों बात की।

बता दें कि सोफिया को अक्टूबर 2017 में सऊदी अरब की नागरिकता दी गई थी। हैनसन रोबोटिक्स ने ह्यूमनॉएड आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस रोबोट सोफिया को तैयार किया था, जब उन्हें सऊदी अरब की नागरिकता दी गई थी तो उन्होंने खुद इसी घोषणा की थी और कहा था कि मैं अपनी पहचान पाकर काफी सम्मानित महसूस कर रही हूं। सोफिया हमेशा यही चाहती है कि वह आम लोगों के साथ रहे और उन्हें समझे इसके साथ ही मनुष्य की तरह की भावनाएं भी प्रकट कर पाए।