सर्वर हैक कर पुणे के कॉसमॉस बैंक से चुराए 94 करोड़, हॉन्गकॉन्ग की कंपनी पर केस दर्ज

पुणे. कॉसमॉस बैंक के पुणे स्थित मुख्यालय का सर्वर हैक कर कथित तौर पर 94 करोड़ रुपए देश से बाहर ट्रांसफर करने का मामला सामने आया है। बैंक ने मंगलवार को चतुःश्रृंगी पुलिस स्टेशन में केस दर्ज कराया। इस संबंध में बैंक आज एक प्रेस कॉन्फ्रेंस भी करेगा। एफआईआर के मुताबिक, इस मामले में हॉन्गकॉन्ग की एक कंपनी और एक अज्ञात व्यक्ति को आरोपी बनाया गया है। कॉसमॉस देश के पुराने कोऑपरेटिव बैंकों में से एक है। इसकी स्थापना 1906 में की गई थी।
दो तरीकों से ट्रांसफर की गई रकम : बैंक ने एफआईआर में कहा- गणेशखिंड रोड स्थित बैंक के मुख्यालय में एटीएम स्विच (सर्वर) को मालवेयर अटैक के जरिए हैक कर लिया गया। इस दौरान डेबिट कार्ड के 14, 849 ट्रांजैक्शन के जरिए 80.5 करोड़ रुपए बैंक के खातों से चुरा कर विदेशी खातों में ट्रांसफर किए गए। मालवेयर अटैक के जरिए ही हजारों डेबिट कार्ड को हैक किया गया था। दूसरा ट्रांजैक्शन स्विफ्ट के जरिए किया गया। इसमें 13.9 करोड़ रुपए की रकम विदेशी खातों में भेजी गई। 11 और 13 अगस्त को रकम का ट्रांजैक्शन किया गया।
स्विफ्ट के जरिए इस तरह होता है ट्रांजैक्शन : एक कर्मचारी मैसेज जारी करता है। दूसरा कर्मचारी उसे अधिकृत (ऑथेंटिकेट) करता है। तीसरा मैसेज को वेरीफाई करता है। एक चौथा इम्पलॉई LoU भेजे जाने के बाद लेन-देन से जुड़ा प्रिंट आउट रिसीव करता है। हैकर्स ने पूरी प्रक्रिया को हैक कर इसका इस्तेमाल रकम भेजने में किया।