120 एकड़ जमीन, दो किलो सोने सहित 70 करोड़ का आसामी निकला रिटायर्ड ईई

जल संसाधन विभाग के पूर्व अफसर के 4 ठिकानों पर ईओडब्ल्यू की
EOW team raided of retired executive engineer Kodu Prasad Tiwari
आर्थिक अपराध एवं अन्वेषण ब्यूरो (ईओडब्ल्यू) की 20 लोगों की भारी-भरकम टीम ने बुधवार को जल संसाधन विभाग के सेवानिवृत्त कार्यपालन यंत्री (ईई) कोदू प्रसाद तिवारी के जबलपुर, सतना, बाराकला और राजेंद्र नगर स्थित ठिकानों पर सुबह पांच बजे छापे मारकर 70 करोड़ से अधिक संपत्ति का पता लगाया है।
ईओडब्ल्यू के उप पुलिस अधीक्षक (डीएसपी) राजवर्धन माहेश्वरी ने बताया कि तिवारी ने पद का दुरुपयोग करते हुए करोड़ों की संपत्ति एकत्र की। इस बात की शिकायत मिलने पर ईओडब्ल्यू द्वारा जांच की गई। डीएसपी ने बताया कि तिवारी के एपीआर कटंगा काॅलोनी स्थित आवास को अभी सील कर दिया गया है, वहां पर गुरुवार सुबह से कार्रवाई शुरू की जाएगी। यहां से भी काफी कुछ मिलने की उम्मीद की जा रही है।
संपत्ति… पत्नी, बेटे और बहू के नाम : पूरी संपत्ति अधिकारी सहित उसकी पत्नी गिरिजा तिवारी, बेटे राजेश तिवारी और बहू प्रीति तिवारी के नाम पर है। इसके चलते ईओडब्ल्यू ने चारों के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति का मामला दर्ज कर लिया है।
आय केवल 52 लाख : कोदू प्रसाद की नौकरी व अन्य आय के स्रोतों से आय कुल 52 लाख रुपए आंकी गई है। वर्ष 2005 से 2011 के बीच दो करोड़ रुपए 25 लाख रुपए की आय का पता लगा है।
1998 में भी मारा था छापा : राज्य आर्थिक ब्यूरो ने इससे पहले 1998 में भी कोदू प्रसाद के यहां आय से अधिक सम्पत्ति के मामले में छापा मारा था और प्रकरण दर्ज किया गया था। उस मामले में बाद में आय से अधिक सम्पत्ति से सम्बंधित कागजात नहीं मिल पाने के कारण खात्मा लगा दिया गया था।
और भी खुलासे होंगे : सेवानिवृत्त ईई कोदूलाल के यहां मारे गए छापे में अब तक बाजार मूल्य के हिसाब से करीब 55 करोड़ की सम्पत्ति का खुलासा हुआ है। अभी जांच जारी है और लॉकर भी खोले जाने हैं। -समर वर्मा, एसपी ईओडब्ल्यू
करोड़ों की जमीन का मालिक : जबलपुर के घर से 120 एकड़ कृषि भूमि, 20 बैंक खाते, पेट्रोल टैंकर, सफारी, क्रेटा वैगनआर, सेंट्रो कार, ट्रैक्टर और बाराकला में एक फ्लैट।
– सतना में 14 प्लाॅट, घर और पेट्रोल पम्प से 20 लाख रुपए नकद, एक किलो की सोने की सिल्ली सहित दो किलो सोने के जेवर, तीन किलो चांदी के जेवर, आलीशान मकान, फ्लैट, 20 बैंक खाते और एक दर्जन से ज्यादा लॉकर मिले हैं।