मां ने की UP विधान परिषद के सभापति के बेटे की हत्या

अभिजीत की मां ने कबूला बेटे ही हत्या का जुर्म
लखनऊ: उत्तर प्रदेश विधान परिषद के सभापति रमेश यादव के बेटे अभिजीत यादव की हत्या के मामले से पर्दा उठ गया है। पुलिस के मुताबिक रमेश की हत्या उनकी मां मीरा यादव ने ही की थी। मीरा ने जुर्म कबूल करते हुए बताया कि अभिजीत शराब पीकर घर में हंगामा करता था। हत्या वाली रात भी वह घर में शराब पीकर आया था और हंगामा कर रहा था। बार-बार के हंगामे से तंग आकर उसने गला दबाकर बेटे को मार डाला। मीरा विधान परिषद अध्यक्ष रमेश यादव की दूसरी पत्नी हैं। मीरा और रमेश के दो बेटे, अभिजीत और अभिषेक हैं।
High returns aur Monthly Income bhi! Get upto 25% pa on P2P
पहले मां ने गुमराह करने की कोशिश की थी
बता दें कि रमेश यादव के बेटे अभिजीत का शव संदिग्ध अवस्था में रविवार को हजरतगंज स्थित उनके निवास पर मिला था। परिवार ने पहले पुलिस को गुमराह करने की कोशिश की थी। परिवार ने बताया था कि शनिवार रात देर से घर आने पर उसने मां को सीने में दर्द होने की जानकारी दी थी। उसके बाद मां से सीने में मालिश करवाकर वह सो गया था। सुबह परिजनों को अभिजीत मृत अवस्था में मिला।
शक के बाद पुलिस ने करवाया पोस्टमॉर्टम
परिजनों ने इसे स्वाभाविक मौत बताते हुए अंतिम संस्कार की तैयारी शुरू कर दी। पर, शक होने पर पुलिस ने अंतिम संस्कार रुकवा कर शव को कब्जे में ले लिया। इसके बाद पोस्टमॉर्टम कराने पर मालूम चला कि अभिजीत की हत्या गला घोंटकर की गई है। इसके बाद पुलिस ने परिवारजनों से पूछताछ शुरू की। बताया जा रहा है कि पुलिस ने अभिजीत की मां और उसके बड़े भाई से कड़ाई से पूछताछ की तो उन्होंने इस बात का खुलासा किया।
‘नशे में उसने मुझे मारने की कोशिश की’
पुलिस को दिए बयान में अभिजीत की मां ने कहा है कि वह अक्सर देर रात नशे में घर आता था और सबसे लड़ाई करता था। शनिवार को भी वह नशे में घर आया था और घर में हंगामा करने लगा। मां का आरोप है कि नशे में अभिजीत ने उन पर हमला बोल दिया। बचाव में उन्होंने उसे धक्का दिया, जिससे वह नीचे गिर गया। पुलिस को दिए बयान में मां ने कहा है कि अभिजीत ने दोबारा उठकर उन्हें मारने की कोशिश की तब उन्होंने चुन्नी से गला घोंटकर उसकी हत्या कर दी।
इस ऐंगल से भी पुलिस कर रही जांच
पुलिस ने फिलहाल आरोपी मां को गिरफ्तार कर लिया है। हालांकि अभी पुलिस को इस मामले में परिवार के अन्य लोगों के भी शामिल होने की आशंका है। यही वजह है कि पुलिस अभी इस ऐंगल से भी मामले की जांच में जुटी है
“मृतक की मां ने हार्ट अटैक से मौत की बात कहते हुए पुलिस को जाने के लिए कहा था। हालांकि बाद में मामले की गंभीरता को देखते हुए अंतिम संस्कार से पहले शव कब्जे में लेकर पोस्टमॉर्टम करवाया गया। इसमें गला दबाकर हत्या की पुष्टि हुई है। इसके साथ ही बिसरा सुरक्षित कर जांच शुरू कर दी गई है।”
-सर्वेश मिश्रा, एएसपी पूर्वी