राहुल ने कहा- हम साबित करके रहेंगे कि राफेल डील में मोदी ने अपने दोस्त को चोरी कराई

नई दिल्ली. राफेल डील पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद कांग्रेस जांच के लिए संसदीय समीति (जेपीसी) गठित करने की मांग पर अड़ी है। राहुल गांधी ने शुक्रवार को कहा कि जेपीसी जांच हो गई तो नरेंद्र मोदी और अनिल अंबानी कितना भी छुप लें, बच नहीं पाएंगे। भाजपा ने सवाल उठाया कि क्या कांग्रेस अध्यक्ष शीर्ष अदालत से ऊपर हैं जो फैसले को नहीं मान रहे हैं? इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने राफेल सौदे में जांच की मांग वाली सभी याचिकाएं खारिज करते हुए कहा कि इसमें शक की कोई गुंजाइश नहीं।
राहुल ने कहा, ”कई साल से राफेल विमान सौदे में भ्रष्टाचार की बात चल रही थी। हमारे सवाल हैं कि विमान 1600 करोड़ में क्यों खरीदा गया? एचएएल से कॉन्ट्रैक्ट क्यों छीनकर अनिल अंबानी को दिया गया? हिंदुस्तान के युवाओं से रोजगार क्यों लिया? फ्रांस की सरकार को क्यों कहा कि आप हवाई जहाज फ्रांस में बनाइए? मोदीजी के फ्रांस से लौटने के बाद रक्षा मंत्री ने कहा था कि मुझे कुछ नहीं मालूम। फ्रांस के राष्ट्रपति ओलांद कहते हैं कि सीधे मोदी ने 36 विमानों का ऑर्डर दिया।”
मोदी राफेल पर क्यों कुछ नहीं बोलते: राहुल
कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि इस मामले में प्रधानमंत्री तो कुछ बोलते नहीं। अरुण जेटली, निर्मला सीतारमण बोलती हैं। हमने जेपीसी की मांग की है। सुप्रीम कोर्ट ने अपने अधिकार क्षेत्र में फैसला दिया। इसमें कोर्ट ने कहा कि सीएजी रिपोर्ट में लिखी राफेल की कीमत की जानकारी संसदीय समिति के साथ साझा की जाए। क्या ये रिपोर्ट रखी गई, नहीं।
सीएजी रिपोर्ट संसद में रखी जाए: खड़गे
मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा- ”सीएजी के पास भी राफेल की कीमत की कोई रिपोर्ट नहीं है। मैंने डिप्टी सीएजी को बुलाकर पूछा- उन्हें भी पता नहीं। ये सब क्या चल रहा है। अगर रिपोर्ट संसद में आएगी तो पब्लिड डोमेन में आएगी। ये रिपोर्ट आई कहां से, किसने दी। कानून ये कहता है कि जब तक ये संसद में नहीं रखी जाएगी, तब तक इसके बारे में बोलने का किसी को अधिकार नहीं है।”
राहुल ने पीएसी को लेकर चुटकी ली
राहुल गांधी ने कहा, ”आज की दुनिया में हो सकता है कि मोदीजी ने अपनी पीएसी प्रधानमंत्री कार्यालय में बैठ रखी हो। मोदीजी आप जितना छिपना चाहते हैं छिप जाइए। आप नहीं बच सकते हैं। जिस दिन जांच हो गई। ये जांच संसद करेगी। जिस दिन हो गई। नरेंद्र मोदी-अनिल अंबानी नहीं रहेंगे।”