USKI ADAA NAY RAKH DIYA KHUD HAMKO MAAR KAY

MUSLIM SALEEM – 7 MAY 2019
USKI ADAA NAY RAKH DIYA KHUD HAMKO MAAR KAY
HAMKO PATAA NAHEEN THAY IRAADE SHIKAR KAY
BOSEEDA PAIRHAN KOI KAB TAK SIYA KARE
BAKHIYE UDHAD GAYE HAIN BAHUT AITBAAR KAY
SEERAT BHALI NA JAANIYE SOORAT KO DEKH KAR
DAAWE GHALAT BHI HOTAY HAIN KUCHH ISHTIHAAR KAY
DHUNDHLA GAYE HAIN AAJ ZAMANAY KI GARD MAIN
JO KUCHH SAJAA KAY RAKKHAY THAY SAPNAY BAHAAR KAY

Nishant Jain shared and commented

आदरणीय मुस्लिम सलीम जी को जब से फेसबुक के माध्यम से पढ़ना शुरू किया तो अपनी छटाँक सी बुद्धि से दावे के साथ कह सकता हुँ कि इनकी कलम जब भी कुछ लिखती है बेहद ही शानदार ही लिखती है….जिनकी हर कलम उम्दा ही लिखती है…..ईश्वर इन्हें खुशियों भरी लंबी कलम सहित दीर्घ आयु प्रदान करे..💐💐

उसकी अदा ने रख दिया ख़ुद हमको मार के
हमको पता नहीं थे इरादे शिकार के
बोसीदा पैरहन कोई कब तक सिया करे
बखिये उधड़ गए हैं बहुत एतबार के
सीरत भली न जानिए सूरत को देखकर
दावे गलत भी होते हे कुछ इश्तिहार के
धुंधला गए हैं आज ज़माने की गर्द में
जो कुछ सजा के रक्खे थे सपने बहार के ।
@मुस्लिम सलीम

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *