बेरोजगारी से परेशान दो दिव्यांगों ने मंत्रालय के अंदर खाया जहर

भोपाल . बेरोजगारी से परेशान होकर मुख्यमंत्री से मिलने भोपाल पहुंचे दो दिव्यांग युवकों ने मंत्रालय के अंदर जहर खा लिया। युवकों के बचाओ-बचाओ चिल्लाने के बाद मंत्रालय की सुरक्षा में लगे पुलिसकर्मियों ने जहांगीराबाद पुलिस को बुलाकर दोनों को गंभीर हालत में हमीदिया अस्पताल पहुंचाया।
दोनों की हालत खतरे के बाहर बताई जाती है, हालांकि डॉक्टरों ने उन्हें 72 घंटे अपनी निगरानी में रखा है।
घाटीगांव क्षेत्र के पुलकापुरा निवासी 28 वर्षीय रामनिवास पुत्र स्वर्गीय गिरिवर सहरिया और 30 वर्षीय सुल्तान पुत्र दीवान रोजगार के लिए लंबे समय से प्रयास कर रहे थे। परिजनों का आरोप है कि बार-बार आवेदन देने के बाद भी स्थानीय स्तर पर उनकी सुनवाई नहीं हो रही थी।
पिछले साल प्रदेश सरकार ने दिव्यांगों के लिए विशेष भर्ती अभियान चलाया था। रामनिवास ने इसके लिए आवेदन भी किया था, लेकिन उसे अपात्र घोषित कर दिया था। उसके बाद दोनों स्थानीय स्तर पर शासन की योजनाओं का लाभ लेकर रोजगार शुरू करना चाहते थे, लेकिन इसमें भी उन्हें कोई मदद नहीं मिल सकी। चलने-फिरने में लाचार दोनों युवक इंट्री कराने के बाद मंत्रालय की बिल्डिंग में चले गए।
दोपहर करीब 3 बजे दाेनों ने चिल्लाना शुरू कर दिया। उनके जहर खाने की बात बताते ही वहां पर हंगामा शुरू हो गया। दोनों को तत्काल जेपी अस्पताल पहुंचाया गया, जहां से जेपी अस्पताल के डॉक्टरों ने तत्काल हमीदिया अस्पताल रैफर कर दिया। उन्होंने डॉक्टरों को बताया कि उन्होंने गोलियां खाईं हैं। डॉक्टरों ने इलाज के बाद उन्हें 72 घंटे की निगरानी में रखा है। इस घटनाक्रम को लेकर कलेक्टर भरत यादव ने कहा, युवकों ने जहरीला पदार्थ क्यों खाया, ये अभी स्पष्ट नहीं हो पाया है। प्रारंभिक सूचना के मुताबिक वे नौकरी न मिलने से परेशान थे।
दोनों युवकों के मंत्रालय आने पर इंट्री हुई थी। दोपहर करीब ढाई बजे दोनों चिल्लाने लगे कि जहर खा लिया। जहर खा लिया। उन्हें तत्काल अस्पताल में भर्ती कराया गया। उनके पास से कोई दस्तावेज नहीं मिले हैं न ही ऐसा कुछ मिला, जिससे यह पता चला कि उन्होंने क्या खाया।
-विश्वास कुमार भटेले, डीएसपी मंत्रालय
पुलिस के पहरे में हो रहा इलाज, हर चार घंटे में बन रही मेडिकल रिपोर्ट : जहर खाने वाले दोनों युवकों का इलाज अस्पताल के मेडिकल वार्ड-2 में पुलिस के पहरे में किया जा रहा है। साथ ही मेडिकल वार्ड-2 के बाहर सुरक्षा बढ़ा दी गई है। अस्पताल अधीक्षक डॉ. एके श्रीवास्तव ने बताया कि दोनों युवकों का इलाज विशेषज्ञ डॉक्टरों की निगरानी में किया जा रहा है। उनकी सेहत में हो रहे बदलावों की अपडेट रिपोर्ट 4-4 घंटे के अंतर से बनाई जा रही है।
दोनों युवकों को हमीदिया अस्पताल में भर्ती कराया गया है। डॉक्टरों के अनुसार दोनों की हालत खतरे के बाहर है। उनके बयान नहीं हो पाने के कारण यह पता नहीं चल पाया है कि वे यहां क्यों आए थे और उन्होंने जहर क्यों खाया? शुक्रवार को उनके बयान लेने के बाद ही इसके बारे में कुछ पता चल पाएगा। -संपत उपाध्याय, एसपी साउथ, भोपाल