Indian Muslims flay Pakistan, agitate against terror attack in many cities

New Delhi: After Pulwama terror attack, Muslims organised agitation against Pakistan in Mumbai, Delhi, Hyderabad, Bengaluru and many other cities of India after offering Friday prayers.
They hit the roads chanting Anti-Pakistan and anti-terrorism slogans. Thye also burned effigies of Pakistan and called for major action against the terrorist country.

पुलवामा आतंकी हमलाः जुमे की नमाज़ के बाद मुंबई, दिल्ली यूपी में सड़कों पर उतरे मुसलमान, आतंकवादियो को सबक सिखाने की मांग
नई दिल्ली – जम्मू कश्मीर के पुलवामा बीते रोज़ गुरुवार को आतंकवादियो ने सेना के काफिले पर हमला किया था, जिसमें अब तक 44 सेना के जवानों की जान जा चुकी हैं। इस हमले के जिम्मेदारी आतंकवादी संगठन जैश ने ली है। बता दें कि इस संगठन का सरगना मसूद अज़हर को पाकिस्तान का संरक्षण प्राप्त है। इस हमले से जहां भारत में चारों ओर शोक की लहर है वहीं देश में आतंकवादियों को प्रति गुस्सा भी दिखाई दे रहा है। साथ ही इस हमले के लिये लोगो ने मौजूदा सरकार से भी तीखे सवाल किये हैं।
दिल्ली में पाकिस्तान के खिलाफ सड़कों पर उतरे मुस्लिम समाज के लोग
पुलवामा आतंकवादी हमले के विरोध में बड़ी संख्या में मुसलमानों ने नाराजगी दर्ज कराई है। मुंबई, दिल्ली, यूपी समेत कई राज्यो में मुसलमानों ने जुमे की नमाज़ के बाद पाकिस्तान का पुतला फूंका और भारत सरकार से कार्रावाई करने की मांग की है। मुजफ्फरनगर के जमीयत उलमा ए हिन्द के सचिव मौलाना मोहम्मद मूसा कासमी ने कहा कि एक दूसरे पर कमेंट करने राजनीति करने का समय नही है ये,पूरा देश एकजुट है,अपनी सरकार के पीछे खड़ा है, आस लगाए हुये है कि कड़े फैसले ले सरकार, नेस्तनाबूद करना ज़रूरी है आतंकवाद को, और राहुल गांधी के इस प्रस्ताव पर विचार करे जिसमे उन्होंने कहा कि सख्त जवाब देने के लिये अगर चुनाव को आगे बढ़ाना पड़े तो आगे बढ़ाना चाहिए। उन्होंने कहा कि देश पहले है एकता के साथ जवाब देने की जरूरत है।
मुंबई में पाकिस्तान के खिलाफ सड़कों पर उतरे मुस्लिम समाज के लोग
दिल्ली में भी मुसलमानो ने जुमे की नमाज़ के बाद गुस्से का इज़हार किया। दिल्ली के युवा एक्टिविस्ट एंव जनधिकार पार्टी (लो) के नेता तौराब नियाज़ी ने कहा कि दुख की इस घड़ी में पूरा हिंदुस्तान और खास तौर से हिंदुस्तान का मुसलमान उन तमाम शहीदों के घरवालों के साथ खड़ा है जिन्होंने इस मुल्क की हिफाजत के लिए अपनी जान दी है इस वक्त मुल्क के चुनाव और विदेश नीति को ताक पर रखते हुए भारत सरकार को कड़े से कड़े कदम उठाने होंगे क्योंकि शायद पाकिस्तान अपनी औकात भूल गया है।
तौराब ने कहा कि आतंकवादियों को पनाह देने वाले देश पाकिस्तान को यह बात साफ-साफ समझ लेनी चाहिए के इस कुर्बानी को हिंदुस्तान तब तक नहीं भूलेगा जब तक आतंकवाद का जड़ से सफाया ना हो जाए अब किसी और शहादत या घटना का इंतजार हम भारतीयों से नहीं होगा खून का बदला सिर्फ खून से लिया जाए।
पाकिस्तान और आतंकवाद का पुतला फूंकने के बाद पत्रकारों से बात करते पैगाम ए इंसानियत के अध्यक्ष हाजी आसिफ राही।
मुजफ्फरनगर के पैगाम ए इंसानियत के अध्यक्ष एंव समाज सेवी हाजी आसिफ राही ने कहा कि जो काम भारत सरकार को बहुत पहले करना चाहिये था वह काम आज किया है। उन्होने कहा कि भारत ने पाकिस्तान को मोस्ट फ़ेवर्ड नेशन यानी सबसे प्यारा देश की सूची से आज निष्काषित किया है जबकि यह काम बहुत पहले हो जाना चाहिये था। उन्होंने कहा कि इस सरकार में सबसे ज्यादा जवानों की जान गईं हैं इसका हिसाब कौन देगा। साथ ही उन्होंने मांग की कि इस हमले में शहीद होने जवानों के परिवार को एक एक करोड़ मुआवज़ा और नौकरी दी जाऐ।
हाजी आसिफ राही की अगुवाई में जुमे की नमाज़ के बाद पाकिस्तान और आतंकवाद का पुतला भी दहन किया गया। उन्होंने बताया कि आज शाम को पुलवामा में शहीद हुए जवानों के लिये श्रद्धांजली सभा का भी आयोजन किया जाएगा।